• Mon. Mar 4th, 2024

NotesPlanet

Visit Our NotesPlanet Website and Build your Future

Ratan Tata BiographyRatan Tata Biography

Ratan Tata Biography

Ratan Tata Biography: Ratan Tata is an Indian industrialist, philanthropist, and former chairman of Tata Sons, the holding company of the Tata Group, one of the largest and oldest conglomerates in India.

रतन टाटा एक भारतीय उद्योगपति, परोपकारी और टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी टाटा संस के पूर्व अध्यक्ष हैं, जो भारत के सबसे बड़े और सबसे पुराने समूहों में से एक है।

Early Life and Education

Ratan Naval Tata was born on December 28, 1937, in Bombay (now Mumbai), India, into the prominent Tata family. He is the son of Naval Tata, a noted businessman, and Sonoo Tata. He is the great-grandson of Tata Group’s founder, Jamsetji Tata.

Ratan Tata completed his schooling from Campion School, Mumbai, and later went on to study architecture and structural engineering from Cornell University in the United States. He completed his B.S. in architecture engineering in 1962.

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

रतन नवल टाटा का जन्म 28 दिसंबर, 1937 को बॉम्बे (अब मुंबई), भारत में प्रमुख टाटा परिवार में हुआ था। वह एक प्रसिद्ध व्यवसायी नवल टाटा और सोनू टाटा के बेटे हैं। वह टाटा समूह के संस्थापक जमशेदजी टाटा के परपोते हैं।

रतन टाटा ने अपनी स्कूली शिक्षा कैंपियन स्कूल, मुंबई से पूरी की और बाद में संयुक्त राज्य अमेरिका के कॉर्नेल विश्वविद्यालय से वास्तुकला और संरचनात्मक इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। उन्होंने अपना बी.एस. पूरा किया। 1962 में आर्किटेक्चर इंजीनियरिंग में।

Ratan Tata

Career:
Ratan Tata started his career working in Tata Steel, one of the major companies in the Tata Group. He worked on the shop floor of Tata Steel, gaining valuable experience. He later worked in various Tata companies before being appointed the director-in-charge of The National Radio and Electronics Company Limited (NELCO) in 1971.

In 1981, Ratan Tata was appointed the chairman of Tata Industries, the group’s other major holding company, where he was responsible for transforming it into a group strategy think tank and a promoter of new journey in high technology businesses. He became the chairman of the Tata Group in 1991, succeeding J.R.D. Tata, and he led the Tata Group for more than two decades.

Under his leadership, the Tata Group expanded globally, acquiring major companies in various sectors, including steel, automobiles, and IT services.

आजीविका

रतन टाटा ने अपने करियर की शुरुआत टाटा समूह की प्रमुख कंपनियों में से एक टाटा स्टील में काम करते हुए की। उन्होंने टाटा स्टील के शॉप फ्लोर पर काम किया और बहुमूल्य अनुभव प्राप्त किया। बाद में 1971 में द नेशनल रेडियो एंड इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी लिमिटेड (एनईएलसीओ) के प्रभारी निदेशक नियुक्त होने से पहले उन्होंने विभिन्न टाटा कंपनियों में काम किया।

1981 में, रतन टाटा को समूह की अन्य प्रमुख होल्डिंग कंपनी, टाटा इंडस्ट्रीज का अध्यक्ष नियुक्त किया गया, जहां वह इसे एक समूह रणनीति थिंक टैंक में बदलने और उच्च प्रौद्योगिकी व्यवसायों में नई यात्रा के प्रवर्तक के लिए जिम्मेदार थे। वह 1991 में जे.आर.डी. के स्थान पर टाटा समूह के अध्यक्ष बने। टाटा, और उन्होंने दो दशकों से अधिक समय तक टाटा समूह का नेतृत्व किया।

उनके नेतृत्व में, टाटा समूह ने वैश्विक स्तर पर विस्तार किया और स्टील, ऑटोमोबाइल और आईटी सेवाओं सहित विभिन्न क्षेत्रों में प्रमुख कंपनियों का अधिग्रहण किया। 

Ratan Tata Biography

Philanthropy

Ratan Tata has been actively involved in philanthropic activities. He has supported various causes, including education, healthcare, and rural development, through the Tata Trusts, the charitable foundation of the Tata Group.

लोकोपकार

रतन टाटा परोपकारी गतिविधियों में सक्रिय रूप से शामिल रहे हैं। उन्होंने टाटा समूह की धर्मार्थ नींव, टाटा ट्रस्ट के माध्यम से शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और ग्रामीण विकास सहित विभिन्न कारणों का समर्थन किया है।

Retirement and Legacy

Ratan Tata retired as the chairman of Tata Sons in 2012, although he continued to be involved in various capacities, including serving as the chairman of the Tata Trusts. He has received Many awards and honors for his contributions to business and society.

Ratan Tata is widely respected for his vision, leadership, and commitment to ethical business practices. He is considered one of the most influential business leaders in India and has left a lasting legacy in the corporate world through his work with the Tata Group.

सेवानिवृत्ति और विरासत

रतन टाटा 2012 में टाटा संस के अध्यक्ष पद से सेवानिवृत्त हुए, हालांकि वह टाटा ट्रस्ट के अध्यक्ष के रूप में कार्य करने सहित विभिन्न पदों पर बने रहे। व्यवसाय और समाज में उनके योगदान के लिए उन्हें कई पुरस्कार और सम्मान मिले हैं।

रतन टाटा को उनकी दूरदर्शिता, नेतृत्व और नैतिक व्यावसायिक प्रथाओं के प्रति प्रतिबद्धता के लिए व्यापक रूप से सम्मान दिया जाता है। उन्हें भारत के सबसे प्रभावशाली व्यापारिक नेताओं में से एक माना जाता है और उन्होंने टाटा समूह के साथ अपने काम के माध्यम से कॉर्पोरेट जगत में एक स्थायी विरासत छोड़ी है।

Important Links

Facebook:  Notesplanet

Instagram: Notesplanet1 

Tags: ratan tata, ratan bombay , ratan mumbai , ratan tata age , ratan tata date of birth , ratan tata net worth , ratan tata birthday , naval tata , ratan tata son , ratan tata wife.

 

By Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *