Guru Gobind Singh Biography

0
73
Guru Gobind Singh Biography
Guru Gobind Singh Biography

Guru Gobind Singh Biography

Guru Gobind Singh Biography: Guru Gobind Singh (1666–1708) was the tenth and last Sikh Guru, as well as the founder of the Khalsa, a militarized Sikh community. He played a crucial role in shaping Sikhism and defending the principles of the faith against persecution.

गुरु गोबिंद सिंह (1666-1708) दसवें और अंतिम सिख गुरु थे, साथ ही एक सैन्यीकृत सिख समुदाय खालसा के संस्थापक भी थे। उन्होंने सिख धर्म को आकार देने और उत्पीड़न के खिलाफ आस्था के सिद्धांतों की रक्षा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

Early Life: प्रारंभिक जीवन

Guru Gobind Singh was born on December 22, 1666, in Patna, Bihar, India. He was the only child of Mata Gujri and Guru Tegh Bahadur, the ninth Sikh Guru.

गुरु गोबिंद सिंह का जन्म 22 दिसंबर, 1666 को पटना, बिहार, भारत में हुआ था। वह नौवें सिख गुरु, गुरु तेग बहादुर और माता गुजरी के इकलौते पुत्र थे।

After the martyrdom of Guru Tegh Bahadur in 1675, Guru Gobind Singh assumed the role of the tenth Sikh Guru at the age of nine.

1675 में गुरु तेग बहादुर की शहादत के बाद, गुरु गोबिंद सिंह ने नौ साल की उम्र में दसवें सिख गुरु की भूमिका निभाई।

Challenges and Warfare: चुनौतियाँ और युद्ध

During his lifetime, Guru Gobind Singh faced significant challenges from the Mughal rulers who were intolerant of religious diversity. The Mughal Emperor Aurangzeb, in particular, sought to suppress Sikhism.

अपने जीवनकाल के दौरान, गुरु गोबिंद सिंह को मुगल शासकों से महत्वपूर्ण चुनौतियों का सामना करना पड़ा जो धार्मिक विविधता के प्रति असहिष्णु थे। मुगल बादशाह औरंगजेब ने, विशेष रूप से, सिख धर्म को दबाने की कोशिश की।

Guru Gobind Singh

The Guru engaged in both diplomatic and military efforts to protect the Sikh community and the principles of righteousness and freedom of religion.

गुरु सिख समुदाय और धार्मिकता और धर्म की स्वतंत्रता के सिद्धांतों की रक्षा के लिए राजनयिक और सैन्य दोनों प्रयासों में लगे रहे।

Creation of the Khalsa: खालसा की रचना

In 1699, Guru Gobind Singh initiated the Khalsa Panth, a community of baptized Sikhs committed to living by a strict code of conduct. The initiation ceremony, known as Amrit Sanskar, involved the preparation of Amrit (sacred nectar) and the administration of the Amrit to the devout Sikhs.

1699 में, गुरु गोबिंद सिंह ने खालसा पंथ की शुरुआत की, जो बपतिस्मा प्राप्त सिखों का एक समुदाय था जो सख्त आचार संहिता के अनुसार जीने के लिए प्रतिबद्ध था। दीक्षा समारोह, जिसे अमृत संस्कार के नाम से जाना जाता है, में अमृत (पवित्र अमृत) की तैयारी और श्रद्धालु सिखों को अमृत का प्रशासन शामिल था।

The Guru also introduced the Five Ks, the distinctive symbols that Khalsa Sikhs are required to wear, which include Kesh (uncut hair), Kara (steel bracelet), Kanga (wooden comb), Kachera (cotton undergarments), and Kirpan (sword).

गुरु ने पांच के की भी शुरुआत की, विशिष्ट प्रतीक जिन्हें खालसा सिखों को पहनना आवश्यक है, जिसमें केश (कटे हुए बाल), कारा (स्टील का कंगन), कांगा (लकड़ी की कंघी), कचेरा (सूती अंडरगारमेंट्स), और किरपान (तलवार) शामिल हैं। .

Guru Gobind Singh Biography In Hindi

Death: मौत

Guru Gobind Singh faced numerous battles against oppressive forces. He lost his four sons—Ajit Singh, Jujhar Singh, Zorawar Singh, and Fateh Singh—during various conflicts.

गुरु गोबिंद सिंह को दमनकारी ताकतों के खिलाफ कई लड़ाइयों का सामना करना पड़ा। विभिन्न संघर्षों के दौरान उन्होंने अपने चार बेटों-अजीत सिंह, जुझार सिंह, जोरावर सिंह और फतेह सिंह को खो दिया।

The Guru himself was assassinated on October 7, 1708, at Nanded in present-day Maharashtra, India. Before his death, he declared the Guru Granth Sahib, the holy scripture, as the eternal Guru for the Sikh community.

गुरु की स्वयं 7 अक्टूबर 1708 को वर्तमान महाराष्ट्र, भारत के नांदेड़ में हत्या कर दी गई थी। अपनी मृत्यु से पहले, उन्होंने पवित्र ग्रंथ, गुरु ग्रंथ साहिब को सिख समुदाय के लिए शाश्वत गुरु घोषित किया।

Guru Gobind Singh’s legacy is profound, as he not only defended Sikhism against persecution but also laid the foundation for a distinct and sovereign Sikh identity. The principles and values he instilled in the Khalsa continue to guide the Sikh community today.

गुरु गोबिंद सिंह की विरासत बहुत गहरी है, क्योंकि उन्होंने न केवल उत्पीड़न के खिलाफ सिख धर्म की रक्षा की, बल्कि एक विशिष्ट और संप्रभु सिख पहचान की नींव भी रखी। खालसा में उनके द्वारा स्थापित सिद्धांत और मूल्य आज भी सिख समुदाय का मार्गदर्शन करते हैं।

Important Links

Facebook:  Notesplanet

Instagram: Notesplanet1

Tags: guru gobind singh biography in hindi, guru gobind singh ji biography in punjabi , biography of guru gobind singh ji , guru gobind singh biography , guru gobind singh biography in english , biography of guru gobind singh ji in hindi, guru gobind singh jayanti 2024

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here