• Thu. Feb 29th, 2024

NotesPlanet

Visit Our NotesPlanet Website and Build your Future

Mahatma Gandhi BiographyMahatma Gandhi Biography

Mahatma Gandhi Biography

Mahatma Gandhi Biography: Mohandas Karamchand Gandhi, better known as Mahatma Gandhi, was a prominent leader in the Indian independence movement against British rule. He was born on 2 October 1869, in Porbandar, a coastal town in present-day Gujarat, India. Gandhi’s life and teachings continue to inspire movements for civil rights and freedom across the world.

मोहनदास करमचंद गांधी, जिन्हें महात्मा गांधी के नाम से जाना जाता है, ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में एक प्रमुख नेता थे। उनका जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को भारत के वर्तमान गुजरात के तटीय शहर पोरबंदर में हुआ था। गांधी का जीवन और शिक्षाएं दुनिया भर में नागरिक अधिकारों और स्वतंत्रता के लिए आंदोलनों को प्रेरित करती रहती हैं।

Early Life:

Gandhi was born into a Hindu merchant caste family and studied law in London. He went to South Africa in 1893 to work as a lawyer and became involved in the struggle against racial discrimination faced by Indians in the country. It was in South Africa that he developed his philosophy of nonviolent resistance, or Satyagraha, which would later become his main tool in the fight for India’s independence.

प्रारंभिक जीवन:

गांधी का जन्म एक हिंदू व्यापारी जाति के परिवार में हुआ था और उन्होंने लंदन में कानून की पढ़ाई की थी। वह वकील के रूप में काम करने के लिए 1893 में दक्षिण अफ्रीका गए और देश में भारतीयों के साथ होने वाले नस्लीय भेदभाव के खिलाफ संघर्ष में शामिल हो गए। यह दक्षिण अफ्रीका में था कि उन्होंने अहिंसक प्रतिरोध या सत्याग्रह का अपना दर्शन विकसित किया, जो बाद में भारत की स्वतंत्रता की लड़ाई में उनका मुख्य उपकरण बन गया।

Return to India:

Gandhi returned to India in 1915 and became a leader in the Indian National Congress, advocating for nonviolent civil disobedience as a means to achieve independence from British rule. He led various campaigns of nonviolent protest, such as the Salt March in 1930, where he walked 240 miles to the Arabian Sea to protest the British monopoly on salt.

भारत वापसी:

गांधीजी 1915 में भारत लौट आए और ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता प्राप्त करने के साधन के रूप में अहिंसक सविनय अवज्ञा की वकालत करते हुए भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में एक नेता बन गए। उन्होंने अहिंसक विरोध के विभिन्न अभियानों का नेतृत्व किया, जैसे 1930 में नमक मार्च, जहां वह नमक पर ब्रिटिश एकाधिकार का विरोध करने के लिए अरब सागर तक 240 मील पैदल चले।

Role in Indian Independence Movement:

Gandhi’s philosophy of nonviolence and civil disobedience inspired millions of Indians to join the Fight for independence. He urged people to boycott British goods, engage in peaceful protests, and refuse to obey unjust laws. His efforts, combined with the sacrifices of millions of Indians, played a significant role in India gaining independence from British rule in 1947.

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में भूमिका:

गांधीजी के अहिंसा और सविनय अवज्ञा के दर्शन ने लाखों भारतीयों को स्वतंत्रता के संघर्ष में शामिल होने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने लोगों से ब्रिटिश वस्तुओं का बहिष्कार करने, शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन में शामिल होने और अन्यायपूर्ण कानूनों को मानने से इनकार करने का आग्रह किया। लाखों भारतीयों के बलिदान के साथ उनके प्रयासों ने 1947 में भारत को ब्रिटिश शासन से आजादी दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी।

Legacy:

Gandhi’s legacy extends far beyond India’s independence movement. He was a proponent of communal harmony and religious tolerance. His teachings on nonviolence and civil disobedience influenced leaders like Martin Luther King Jr. and Nelson Mandela in their fights against racism and apartheid.

परंपरा:

गांधी की विरासत भारत के स्वतंत्रता आंदोलन से कहीं आगे तक फैली हुई है। वह सांप्रदायिक सद्भाव और धार्मिक सहिष्णुता के समर्थक थे। अहिंसा और सविनय अवज्ञा पर उनकी शिक्षाओं ने मार्टिन लूथर किंग जूनियर और नेल्सन मंडेला जैसे नेताओं को नस्लवाद और रंगभेद के खिलाफ उनकी लड़ाई में प्रभावित किया।

Later Life and Assassination:

After India gained independence, Gandhi continued to work for communal peace but was tragically assassinated by a Hindu nationalist on January 30, 1948, in New Delhi.

बाद का जीवन और हत्या:

भारत को स्वतंत्रता मिलने के बाद, गांधी ने सांप्रदायिक शांति के लिए काम करना जारी रखा लेकिन 30 जनवरी, 1948 को नई दिल्ली में एक हिंदू राष्ट्रवादी द्वारा उनकी दुखद हत्या कर दी गई।

Important Links

Facebook:  Notesplanet

Instagram: Notesplanet1 

Tags: mahatma gandhi biography , mahatma gandhi biography in english, mahatma gandhi biography in hindi, mahatma gandhi biography in english pdf, mahatma gandhi biography in telugu, biography of mahatma gandhi in english, mahatma gandhi short biography, biography of mahatma gandhi in hindi, who wrote the biography of mahatma gandhi, mahatma gandhi biography in bengali

 

 

By Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *