• Thu. Feb 29th, 2024

NotesPlanet

Visit Our NotesPlanet Website and Build your Future

APJ Abdul Kalam BiographyAPJ Abdul Kalam Biography

APJ Abdul Kalam Biography

APJ Abdul Kalam Biography: Avul Pakir Jainulabdeen Abdul Kalam, also known as A.P.J. Abdul Kalam, was an Indian scientist and politician who worked as the 11th President of India from 2002 to 2007. He was born on October 15, 1931, in Rameswaram, a town in the Indian state of Tamil Nadu. Kalam was a renowned aerospace engineer and played a pivotal role in India’s civilian space program and military missile development efforts.

अवुल पाकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम, जिन्हें ए.पी.जे. के नाम से भी जाना जाता है। अब्दुल कलाम एक भारतीय वैज्ञानिक और राजनीतिज्ञ थे, जिन्होंने 2002 से 2007 तक भारत के 11वें राष्ट्रपति के रूप में काम किया। उनका जन्म 15 अक्टूबर, 1931 को भारत के तमिलनाडु राज्य के एक शहर, रामेश्वरम में हुआ था। कलाम एक प्रसिद्ध एयरोस्पेस इंजीनियर थे और उन्होंने भारत के नागरिक अंतरिक्ष कार्यक्रम और सैन्य मिसाइल विकास प्रयासों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

APJ Abdul Kalam

Early Life

Abdul Kalam was born into a Tamil Muslim family. His father, Jainulabdeen, was a imam of a local mosque and boat owner , and his mother, Ashiamma, was a housewife. Despite his family’s limited financial resources, Kalam was a bright and hardworking student. He studied physics and aerospace engineering and graduated from the Madras Institute of Technology in 1958.

प्रारंभिक जीवन

अब्दुल कलाम का जन्म एक तमिल मुस्लिम परिवार में हुआ था। उनके पिता, जैनुलाब्दीन, एक स्थानीय मस्जिद के इमाम और नाव के मालिक थे, और उनकी माँ, अशिअम्मा, एक गृहिणी थीं। अपने परिवार के सीमित वित्तीय संसाधनों के बावजूद, कलाम एक प्रतिभाशाली और मेहनती छात्र थे। उन्होंने भौतिकी और एयरोस्पेस इंजीनियरिंग का अध्ययन किया और 1958 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से स्नातक की उपाधि प्राप्त की।

Career

After completing his education, Kalam joined the Defence Research and Development Organisation (DRDO), where he worked on various missile projects. He was a key figure in India’s Pokhran-II nuclear tests in 1998, which established India as a nuclear weapons state. Later, he also served as the Chief Scientific Adviser to the Prime Minister and the Secretary of the Defence Research and Development Organisation.

आजीविका

अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद, कलाम रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) में शामिल हो गए, जहाँ उन्होंने विभिन्न मिसाइल परियोजनाओं पर काम किया। वह 1998 में भारत के पोखरण-द्वितीय परमाणु परीक्षणों में एक प्रमुख व्यक्ति थे, जिसने भारत को एक परमाणु हथियार राज्य के रूप में स्थापित किया। बाद में, उन्होंने प्रधान मंत्री के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार और रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन के सचिव के रूप में भी कार्य किया।

Abdul Kalam

Presidency

In 2002, Abdul Kalam was elected as the President of India, becoming the country’s third President to have been honored with the Bharat Ratna, India’s highest civilian award, before becoming the President. During his term, he focused on education, information technology, and the development of India’s rural areas. He was widely regarded as the “People’s President” for his down-to-earth attitude and accessibility.

अध्यक्षता

2002 में, अब्दुल कलाम को भारत के राष्ट्रपति के रूप में चुना गया, वह देश के तीसरे राष्ट्रपति बने, जिन्हें राष्ट्रपति बनने से पहले भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार, भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने शिक्षा, सूचना प्रौद्योगिकी और भारत के ग्रामीण क्षेत्रों के विकास पर ध्यान केंद्रित किया। उनके व्यावहारिक रवैये और पहुंच के कारण उन्हें व्यापक रूप से “जनता का राष्ट्रपति” माना जाता था।

DR APJ Abdul Kalam

Post-Presidency and Legacy

After his presidency, Kalam continued to be involved in education and writing. He was a visiting professor at various universities and institutions, inspiring students with his lectures. He also authored several books, including “Wings of Fire,” an autobiography that traces his early life and career.

Tragically, A.P.J. Abdul Kalam passed away on 27 July 2015, while delivering a lecture at the Indian Institute of Management Shillong. His death was widely mourned, and he is remembered as a visionary scientist, a dedicated teacher, and a beloved President who inspired millions of people, especially the youth, with his wisdom and ideals. His life and work continue to be a source of inspiration for generations in India and around the world.

राष्ट्रपति पद और विरासत

राष्ट्रपति बनने के बाद कलाम शिक्षा और लेखन से जुड़े रहे। वह विभिन्न विश्वविद्यालयों और संस्थानों में विजिटिंग प्रोफेसर थे और अपने व्याख्यानों से छात्रों को प्रेरित करते थे। उन्होंने कई किताबें भी लिखीं, जिनमें “विंग्स ऑफ फायर” भी शामिल है, जो एक आत्मकथा है जो उनके प्रारंभिक जीवन और करियर का वर्णन करती है।

दुख की बात है कि ए.पी.जे. अब्दुल कलाम का 27 जुलाई 2015 को भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलांग में व्याख्यान देते समय निधन हो गया। उनकी मृत्यु पर व्यापक शोक व्यक्त किया गया और उन्हें एक दूरदर्शी वैज्ञानिक, एक समर्पित शिक्षक और एक प्रिय राष्ट्रपति के रूप में याद किया जाता है, जिन्होंने अपने ज्ञान और आदर्शों से लाखों लोगों, विशेषकर युवाओं को प्रेरित किया। उनका जीवन और कार्य भारत और दुनिया भर में पीढ़ियों के लिए प्रेरणा का स्रोत बना हुआ है।

Important Links

Facebook:  Notesplanet

Instagram: Notesplanet1 

Tags: apj abdul kalam biography pdf, apj abdul kalam biography in hindi, apj abdul kalam childhood, apj abdul kalam death date, apj abdul kalam father name

By Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *