Rajasthan History Notes

0
115
Rajasthan History Notes
Rajasthan History Notes

Rajasthan History Notes

Rajasthan History Notes: In this block you will get “History of Rajasthan” notes. These notes are in Hindi and English. These notes are useful for your upcoming exams like RAS, REET, RPSC, Rajasthan police etc. You will get complete information in these Rajasthan History notes.

Rajasthan History

Rajasthan, a state in the northwestern region of India, is rich in history and culture, dating back thousands of years. Here’s an overview of the historical background of Rajasthan:

राजस्थान, भारत के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र का एक राज्य, हजारों साल पुराना इतिहास और संस्कृति से समृद्ध है। यहां राजस्थान की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि का अवलोकन दिया गया है:

Ancient Period:

Rajasthan’s history dates back to the ancient Indus Valley Civilization, one of the world’s oldest urban cultures, which existed around 3300–1300 BCE. Later, Rajasthan became a part of the Mahajanapada states around 600 BCE. The region saw the rise and fall of various dynasties and empires, including the Mauryas and Guptas.

प्राचीन काल:

राजस्थान का इतिहास प्राचीन सिंधु घाटी सभ्यता से मिलता है, जो दुनिया की सबसे पुरानी शहरी संस्कृतियों में से एक है, जो लगभग 3300-1300 ईसा पूर्व अस्तित्व में थी। बाद में, लगभग 600 ईसा पूर्व राजस्थान महाजनपद राज्यों का हिस्सा बन गया। इस क्षेत्र ने मौर्य और गुप्त सहित विभिन्न राजवंशों और साम्राज्यों का उत्थान और पतन देखा।

Medieval Period:

During the medieval period, Rajasthan was divided into several small kingdoms ruled by Rajput clans. These kingdoms were often in conflict with each other and with external invaders. The Rajputs, known for their chivalry and valor, resisted the expansionist efforts of the Delhi Sultanate. The 8th to 11th centuries saw the emergence of major Rajput kingdoms such as Mewar, Marwar, and Amber (later known as Jaipur).

In the 12th century, Rajasthan witnessed the establishment of the Sultanate of Delhi under Muslim rule. The Mughals also made significant inroads into the region. However, many Rajput rulers maintained their independence, engaging in both alliances and conflicts with the Mughals over the centuries.

मध्यकाल:

मध्ययुगीन काल के दौरान, राजस्थान राजपूत कुलों द्वारा शासित कई छोटे राज्यों में विभाजित था। ये राज्य अक्सर एक दूसरे के साथ और बाहरी आक्रमणकारियों के साथ संघर्ष में रहते थे। अपनी वीरता और वीरता के लिए जाने जाने वाले राजपूतों ने दिल्ली सल्तनत के विस्तारवादी प्रयासों का विरोध किया। 8वीं से 11वीं शताब्दी में मेवाड़, मारवाड़ और अंबर (जिसे बाद में जयपुर के नाम से जाना गया) जैसे प्रमुख राजपूत साम्राज्यों का उदय हुआ।

12वीं शताब्दी में, राजस्थान में मुस्लिम शासन के तहत दिल्ली सल्तनत की स्थापना देखी गई। मुगलों ने भी इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण अतिक्रमण किया। हालाँकि, कई राजपूत शासकों ने सदियों से मुगलों के साथ गठबंधन और संघर्ष दोनों में शामिल होकर अपनी स्वतंत्रता बनाए रखी।

Colonial Period:

During the colonial era, Rajasthan, like the rest of India, came under British rule. Various princely states in the region signed treaties with the British Crown, becoming a part of British India. After India gained independence in 1947, the princely states of Rajasthan were merged to form a single state on March 30, 1949.

औपनिवेशिक काल:

औपनिवेशिक युग के दौरान, शेष भारत की तरह, राजस्थान भी ब्रिटिश शासन के अधीन आ गया। क्षेत्र की विभिन्न रियासतों ने ब्रिटिश भारत का हिस्सा बनकर ब्रिटिश क्राउन के साथ संधियों पर हस्ताक्षर किए। 1947 में भारत को आजादी मिलने के बाद, 30 मार्च, 1949 को राजस्थान की रियासतों को एक राज्य बनाने के लिए विलय कर दिया गया।

Post-Independence Period:

Rajasthan was reorganized after India’s independence into its present form with Jaipur as its capital. The state has made significant progress in various fields since independence. Today, Rajasthan is known for its rich cultural heritage, magnificent palaces, forts, and temples, attracting tourists from all over the world. The state’s history continues to influence its vibrant art, architecture, and traditions, making it a fascinating destination for history enthusiasts and travelers.

स्वतंत्रता के बाद की अवधि:

भारत की आजादी के बाद राजस्थान को उसके वर्तमान स्वरूप में पुनर्गठित किया गया, जिसकी राजधानी जयपुर थी। आजादी के बाद से राज्य ने विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति की है। आज, राजस्थान अपनी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत, शानदार महलों, किलों और मंदिरों के लिए जाना जाता है, जो दुनिया भर से पर्यटकों को आकर्षित करता है। राज्य का इतिहास इसकी जीवंत कला, वास्तुकला और परंपराओं को प्रभावित करता है, जिससे यह इतिहास के प्रति उत्साही और यात्रियों के लिए एक आकर्षक गंतव्य बन जाता है।

Important Links

Facebook:  Notesplanet

Instagram: Notesplanet1 

Tags: history of rajasthan book, History of rajasthan wikipedia, History of rajasthan timeline, history of rajasthan pdf, History of rajasthan in english, history of rajasthan hindi, History of rajasthan essay, ancient history of rajasthan pdf

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here