Republic Day 2022: History & Significance

0
326
Republic Day 2022
Republic Day 2022: History & Significance

Republic Day 2022

Republic Day 2022: भारत हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाता है। गणतंत्र दिवस भारत के इतिहास में एक महत्वपूर्ण घटना है। यह भारत के संविधान के अधिनियमन की याद दिलाता है जो 26 जनवरी, 1950 को लागू हुआ और राष्ट्र को एक गणतंत्र बना दिया।

दिन का मुख्य आकर्षण गणतंत्र दिवस परेड है जो राजपथ, दिल्ली से शुरू होती है और इंडिया गेट पर समाप्त होती है। इस वर्ष देश अपना 73वां गणतंत्र दिवस मनाएगा।

Republic Day 2022: History (इतिहास)

15 अगस्त 1947 को भारत को स्वतंत्रता मिलने के बाद, देश का अपना कोई स्थायी संविधान नहीं था। दो सप्ताह बाद 29 अगस्त, 1947 को एक मसौदा समिति नियुक्त करने का प्रस्ताव पेश किया गया।

डॉ बी आर अम्बेडकर की अध्यक्षता वाली मसौदा समिति को भारत के संविधान का मसौदा तैयार करने का काम सौंपा गया था। इस समिति का प्रथम अधिवेशन 9 दिसम्बर 1946 को हुआ था, जिसके बाद संविधान के मसौदे पर बहस और विचार-विमर्श के लिए दो साल तक कई दौर के सत्र हुए।

 

Republic Day
Republic Day

मसौदा समिति में शुरुआत में 389 सदस्य शामिल थे लेकिन भारत की आजादी और विभाजन के बाद सदस्यों की संख्या घटकर 299 रह गई।

मसौदा समिति का अंतिम सत्र 26 नवंबर 1949 को समाप्त हुआ और उसी दिन संविधान को अपनाया गया। हालाँकि, दो महीने बाद, 26 जनवरी, 1950 को यह प्रभाव में आया।

 

Republic Day: Significance (महत्व)

26 जनवरी को उस दिन के रूप में चुना गया था जब भारत का संविधान लागू हुआ था क्योंकि इसी दिन 1929 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने ब्रिटिश राज के खिलाफ भारतीय स्वतंत्रता की घोषणा (पूर्ण स्वराज) की थी।

भारत के संविधान के प्रभाव में आने से संप्रभु गणराज्य में देश का संक्रमण पूरा हुआ।

26 जनवरी 1950 को डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने भारत के पहले राष्ट्रपति के रूप में अपना कार्यकाल शुरू किया। नए संविधान के संक्रमणकालीन प्रावधानों के तहत संविधान सभा भारतीय संसद बन गई।

Important Links

Facebook:  Notesplanet

Instagram: Notesplanet1 

Tags: republic day 2022 speech, republic day 2022 73rd,  India republic day 2022 theme, republic day 2022 chief guest.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here